श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 1: सृष्टि  » 

 
 
अध्याय 1:  मुनियों की जिज्ञासा
 
अध्याय 2:  दिव्यता तथा दिव्य सेवा
 
अध्याय 3:  समस्त अवतारों के स्रोत : कृष्ण
 
अध्याय 4:  श्री नारद का प्राकट्य
 
अध्याय 5:  नारद द्वारा व्यासदेव को श्रीमद्भागवत के विषय में आदेश
 
अध्याय 6:  नारद तथा व्यासदेव का संवाद
 
अध्याय 7:  द्रोण-पुत्र को दण्ड
 
अध्याय 8:  महारानी कुन्ती द्वारा प्रार्थना तथा परीक्षित की रक्षा
 
अध्याय 9:  भगवान् कृष्ण की उपस्थिति में भीष्मदेव का देह-त्याग
 
अध्याय 10:  द्वारका के लिए भगवान् कृष्ण का प्रस्थान
 
अध्याय 11:  भगवान् श्रीकृष्ण का द्वारका में प्रवेश
 
अध्याय 12:  सम्राट परीक्षित का जन्म
 
अध्याय 13:  धृतराष्ट्र द्वारा गृह-त्याग
 
अध्याय 14:  भगवान् श्रीकृष्ण का अन्तर्धान होना
 
अध्याय 15:  पाण्डवों की सामयिक निवृत्ति
 
अध्याय 16:  परीक्षित ने कलियुग का सत्कार किस तरह किया
 
अध्याय 17:  कलि को दण्ड तथा पुरस्कार
 
अध्याय 18:  ब्राह्मण बालक द्वारा महाराज परीक्षित को शाप
 
अध्याय 19:  शुकदेव गोस्वामी का प्रकट होना
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥