श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 1: सृष्टि  »  अध्याय 1: मुनियों की जिज्ञासा  »  श्लोक 5
 
 
श्लोक
त एकदा तु मुनय: प्रातर्हुतहुताग्नय: ।
सत्कृतं सूतमासीनं पप्रच्छुरिदमादरात् ॥ ५ ॥
 
शब्दार्थ
ते—वे (मुनिगण) ; एकदा—एक दिन; तु—लेकिन; मुनय:—मुनिगण; प्रात:—प्रात:काल; हुत—जलाकर; हुत- अग्नय:—यज्ञ की अग्नि; सत्-कृतम्—आदर समेत; सूतम्—श्री सूत गोस्वामी को; आसीनम्—बैठा कर; पप्रच्छु:— पूछा; इदम्—इस पर (निम्नलिखित); आदरात्—आदरपूर्वक ।.
 
अनुवाद
 
 एक दिन यज्ञाग्नि जलाकर अपने प्रात:कालीन कृत्यों से निवृत्त होकर तथा श्रील सूत गोस्वामी को आदरपूर्वक आसन अर्पण करके ऋषियों ने सम्मानपूर्वक निम्नलिखित विषयों पर प्रश्न पूछे।
 
तात्पर्य
 आध्यात्मिक सेवाओं के लिए प्रात:काल सर्वश्रेष्ठ समय होता है। ऋषियों ने भागवत के वक्ता के लिए ससम्मान एक ऊँचा आसन अर्पण किया, जिसे व्यासासन कहते हैं। श्री व्यासदेव समस्त मनुष्यों के मूल आध्यात्मिक उपदेष्टा हैं। अन्य सारे उपदेशक उनके प्रतिनिध माने जाते हैं। प्रतिनिधि वही है जो श्री व्यासदेव के दृष्टिकोण को सही-सही प्रस्तुत कर सके। श्री व्यासदेव ने भागवत का सन्देश श्रील शुकदेव गोस्वामी को प्रदान किया और श्री सूत गोस्वामी ने उनसे (श्री शुकदेव गोस्वामी से) इसे सुना। श्री व्यासदेव के सारे प्रामाणिक प्रतिनिधियों को शिष्य-परम्परा में गोस्वामी समझना चाहिए। ये गोस्वामी अपनी सारी इन्द्रियों को वश में करके पूर्ववर्ती आचार्यों के पथ में दृढ़ रहते हैं। वे भागवत पर मनमाने व्याख्यान नहीं देते, अपितु अपने उन पूर्ववर्ती आचार्यों का अनुगमन करते हुए अत्यन्त सावधानी से सेवा करते हैं, जिन्होंने उन तक दिव्य संदेश को यथारूप पहुँचाया।

भागवत के श्रोतागण वक्ता से अर्थ स्पष्ट करने के लिए प्रश्न पूछ सकते हैं, किन्तु चुनौती की भावना से ऐसा नहीं करना चाहिए। श्रोता को चाहिए कि वक्ता तथा विषयवस्तु के लिए अत्यन्त सम्मान के साथ प्रश्न पूछे। भगवद्गीता में भी इसी विधि का निर्देश किया गया है। मनुष्य को उपयुक्त स्रोतों से विनयपूर्वक श्रवण करके दिव्य विषय सीखना चाहिए। इसीलिए इन मुनियों ने वक्ता सूत गोस्वामी को अत्यन्त सम्मानपूर्वक सम्बोधित किया।

 
शेयर करें
       
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥