श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 1: सृष्टि  »  अध्याय 7: द्रोण-पुत्र को दण्ड  »  श्लोक 38
 
 
श्लोक
प्रतिश्रुतं च भवता पाञ्चाल्यै श‍ृण्वतो मम ।
आहरिष्ये शिरस्तस्य यस्ते मानिनि पुत्रहा ॥ ३८ ॥
 
शब्दार्थ
प्रतिश्रुतम्—वचन दिया गया; च—तथा; भवता—तुम्हारे द्वारा; पाञ्चाल्यै—राजा पांचाल की पुत्री (द्रौपदी) को; शृण्वत:—सुना गया; मम—मेरे द्वारा; आहरिष्ये—मैं अवश्य लाऊँगा; शिर:—सिर; तस्य—उसका; य:—जिसने; ते— तुम्हारे; मानिनि—मानते हो; पुत्र-हा—पुत्रों का वधकर्ता ।.
 
अनुवाद
 
 इसके अतिरिक्त, मैंने स्वयं तुम्हें द्रौपदी से यह प्रतिज्ञा करते सुना है कि तुम उसके पुत्रों के वधकर्ता का सिर लाकर उपस्थित करोगे।
 
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥