श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 10: परम पुरुषार्थ  »  अध्याय 22: कृष्ण द्वारा अविवाहिता गोपियों का चीरहरण  »  श्लोक 6

 
श्लोक
ऊषस्युत्थाय गोत्रै: स्वैरन्योन्याबद्धबाहव: ।
कृष्णमुच्चैर्जगुर्यान्त्य: कालिन्द्यां स्‍नातुमन्वहम् ॥ ६ ॥
 
शब्दार्थ
ऊषसि—तडक़े; उत्थाय—उठकर; गोत्रै:—नामों से; स्वै:—अपने अपने; अन्योन्य—एक-दूसरे का; आबद्ध—पकडक़र; बाहव:—हाथ; कृष्णम्—कृष्ण की महिमा हेतु; उच्चै:—उच्च स्वर से; जगु:—गाने लगतीं; यान्त्य:—जाते हुए; कालिन्द्याम्— यमुना नदी को; स्नातुम्—स्नान करने के लिए; अनु-अहम्—प्रतिदिन ।.
 
अनुवाद
 
 प्रतिदिन वे बड़े तडक़े उठतीं। एक-दूसरे का नाम ले लेकर वे सब हाथ पकडक़र स्नान के लिए कालिन्दी जाते हुए कृष्ण की महिमा का जोर जोर से गायन करतीं।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥