हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 10: परम पुरुषार्थ  »  अध्याय 22: कृष्ण द्वारा अविवाहिता गोपियों का चीरहरण  »  श्लोक 6
 
 
श्लोक  10.22.6 
ऊषस्युत्थाय गोत्रै: स्वैरन्योन्याबद्धबाहव: ।
कृष्णमुच्चैर्जगुर्यान्त्य: कालिन्द्यां स्‍नातुमन्वहम् ॥ ६ ॥
 
शब्दार्थ
ऊषसि—तडक़े; उत्थाय—उठकर; गोत्रै:—नामों से; स्वै:—अपने अपने; अन्योन्य—एक-दूसरे का; आबद्ध—पकडक़र; बाहव:—हाथ; कृष्णम्—कृष्ण की महिमा हेतु; उच्चै:—उच्च स्वर से; जगु:—गाने लगतीं; यान्त्य:—जाते हुए; कालिन्द्याम्— यमुना नदी को; स्नातुम्—स्नान करने के लिए; अनु-अहम्—प्रतिदिन ।.
 
अनुवाद
 
 प्रतिदिन वे बड़े तडक़े उठतीं। एक-दूसरे का नाम ले लेकर वे सब हाथ पकडक़र स्नान के लिए कालिन्दी जाते हुए कृष्ण की महिमा का जोर जोर से गायन करतीं।
 
 
शेयर करें
       
 
  All glories to Srila Prabhupada. All glories to  वैष्णव भक्त-वृंद
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
>  हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥