श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 10: परम पुरुषार्थ  »  अध्याय 77: कृष्ण द्वारा शाल्व का वध  »  श्लोक 10

 
श्लोक
रथं प्रापय मे सूत शाल्वस्यान्तिकमाशु वै ।
सम्भ्रमस्ते न कर्तव्यो मायावी सौभराडयम् ॥ १० ॥
 
शब्दार्थ
रथम्—रथ को; प्रापय—लाओ; मे—मेरे; सूत—हे सारथी; शाल्वस्य—शाल्व के; अन्तिकम्—निकट; आशु—तेजी से; वै— निस्सन्देह; सम्भ्रम:—मोह; ते—तुम्हारे द्वारा; न कर्तव्य:—अनुभव नहीं होना चाहिए; माया-वी—महान् जादूगर; सौभ-राट्— सौभ का स्वामी; अयम्—यह ।.
 
अनुवाद
 
 [भगवान् कृष्ण ने कहा] : हे सारथी, शीघ्र ही मेरा रथ शाल्व के निकट ले चलो। यह सौभ-पति शक्तिशाली जादूगर है, तुम उससे विमोहित नहीं होना।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥