श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 10: परम पुरुषार्थ  »  अध्याय 81: भगवान् द्वारा सुदामा ब्राह्मण को वरदान  »  श्लोक 4
 
 
श्लोक
पत्रं पुष्पं फलं तोयं यो मे भक्त्या प्रयच्छति ।
तदहं भक्त्युपहृतमश्न‍ामि प्रयतात्मन: ॥ ४ ॥
 
शब्दार्थ
पत्रम्—पत्ती; पुष्पम्—फूल; फलम्—फल; तोयम्—जल; य:—जो कोई भी; मे—मुझको; भक्त्या—भक्तिपूर्वक; प्रयच्छति—प्रदान करता है; तत्—वह; अहम्—मैं; भक्ति-उपहृतम्—भक्ति की भेंट; अश्नामि—स्वीकार करता हूँ; प्रयत- आत्मन:—शुद्ध चेतना वाले से ।.
 
अनुवाद
 
 यदि कोई मुझे प्रेम तथा भक्ति के साथ एक पत्ती, फूल, फल या जल अर्पित करता है, तो मैं उसे स्वीकार करता हूँ।
 
तात्पर्य
 ये सुप्रसिद्ध शब्द भगवान् द्वारा भगवद्गीता (९.२६)में भी कहे गये हैं। उपर्युक्त भावार्थ तथा शब्दार्थ श्रील प्रभुपाद के भगवद्गीता यथारूप से लिये गये हैं।

सुदामा के द्वारका गमन की वर्णित घटना के प्रसंग में श्रील विश्वनाथ चक्रवर्ती भगवान् कृष्ण के वाक्यों की व्याख्या करते हुए कहते हैं—यह श्लोक सुदामा की उस चिन्ता का उत्तर है कि उसके द्वारा लाई गई अनुपयुक्त भेंट की सोच अविवेकपूर्ण थी। भक्त्या प्रयच्छति तथा भक्त्युपहृतम् शब्द भले ही अनावश्यक लगें, क्योंकि दोनों का अर्थ “भक्तिपूर्वक भेंट करना” है किन्तु भक्त्या शब्द यह सूचित करता है कि भगवान् प्रेमपूर्वक भेंट करने वाले की भक्ति का किस तरह से आदान-प्रदान करते हैं।

दूसरे शब्दों में, भगवान् कृष्ण यह घोषित करते हैं कि शुद्ध प्रेम-विनिमय भेंट के बाह्य गुण पर निर्भर नहीं करता। कृष्ण कहते हैं, “कोई वस्तु भले ही अपने में प्रभावशाली अथवा सुखद हो या न हो किन्तु जब भक्त उस वस्तु को भक्तिपूर्वक मुझे इस आशा के साथ अर्पित करता है कि मैं उसका आस्वादन करूँगा तो इससे मुझे अतिशय आनन्द होता है। इसमें मैं कोई भेदभाव नहीं बरतता।” अश्नामि क्रिया का भाव यह है कि भगवान् कृष्ण फूल तक को खा लेते हैं, जो सूँघने की वस्तु है, क्योंकि अपने भक्त के लिए अनुभव किये जाने वाले भावमय प्रेम में वे विभोर हो जाते हैं।

हो सकता है कि भगवान् से कोई यह प्रश्न करे, “तो क्या आप भक्त द्वारा किसी अन्य अर्चाविग्रह को अर्पित वस्तु नकार देंगे?” भगवान् उत्तर देते हैं, “हाँ, मैं उसे खाने से इनकार कर दूँगा।” इसे भगवान् प्रयतात्मन: शब्द द्वारा कहते हैं जिसका अर्थ है “मेरी भक्ति के द्वारा ही मनुष्य शुद्ध हृदय वाला बन सकता है।”

 
शेयर करें
       
 
  All glories to Srila Prabhupada. All glories to वैष्णव भक्त-वृंद
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
About Us | Terms & Conditions
Privacy Policy | Refund Policy
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥