श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 10: परम पुरुषार्थ  »  अध्याय 87: साक्षात् वेदों द्वारा स्तुति  »  श्लोक 19

 
श्लोक
स्वकृतविचित्रयोनिषु विशन्निव हेतुतया
तरतमतश्चकास्स्यनलवत् स्वकृतानुकृति: ।
अथ वितथास्वमूष्ववितथं तव धाम समं
विरजधियोऽनुयन्त्यभिविपण्यव एकरसम् ॥ १९ ॥
 
शब्दार्थ
स्व—अपने द्वारा; कृत—बनाया हुआ; विचित्र—विविध; योनिषु—योनियों में; विशन्—प्रवेश करते हुए; इव—सदृश; हेतुतया—कारणस्वरूप; तरतमत:—कोटियों के अनुसार; चकास्सि—दृश्य बनते हो; अनल-वत्—आग की तरह; स्व— अपनी; कृत—सृष्टि; अनुकृति:—अनुकरण करते हुए; अथ—इसलिए; वितथासु—नकली; अमूषु—इन (योनियों) में से; अवितथम्—नकली नहीं; तव—तुम्हारा; धाम—प्राकट्य; समम्—अभिन्न; विरज—निर्मल; धिय:—जिनके मन; अनुयन्ति— समझते हैं; अभिविपण्यव:—सारे भौतिक बन्धों (पण) से मुक्त हैं, जो; एक-रसम्—अपरिवर्तित ।.
 
अनुवाद
 
 आपने जीवों की जो विविध योनियाँ उत्पन्न की हैं, उनमें प्रवेश करके, उनकी उच्च तथा निम्न अवस्थाओं के अनुसार आप अपने को प्रकट करते हैं और उन्हें कर्म करने के लिए प्रेरित करते हैं, जिस प्रकार अग्नि अपने द्वारा जलाई जाने वाली वस्तु के अनुसार अपने को विविध रूपों में प्रकट करती है। अतएव जो लोग भौतिक आसक्तियों से सर्वथा मुक्त हैं, ऐसे निर्मल बुद्धि वाले लोग आपके अभिन्न तथा अपरिवर्तनशील आत्मा को इन तमाम अस्थायी योनियों में स्थायी सत्य के रूप में साक्षात्कार करते हैं।
 
तात्पर्य
 साक्षात् वेदों की इन स्तुतियों को, जिनमें श्रुतियाँ परमात्मा को असंख्य प्रकार के भौतिक शरीरों में प्रविष्ट करते हुए बताती हैं, सुनकर आलोचक यह प्रश्न उठा सकता है कि ब्रह्म सीमित हुए बिना ऐसा कैसे कर सकता है? निस्सन्देह अद्वैत दर्शन का समर्थक परमात्मा तथा उनकी सृष्टि में कोई महत्त्वपूर्ण अन्तर नहीं देखता। निर्विशेष विचारधारा के अनुसार ब्रह्म माया के जाल में बुरी तरह फँस कर पहले साकार ईश्वर बना और तब वह देवता, मनुष्य, पशु, पौधे और अन्त में पदार्थ बना। शंकराचार्य तथा उनके अनुयायी इस सिद्धान्त के समर्थन में कि ब्रह्म पर माया कैसे थोपी जाती है वैदिक प्रमाण जुटाने में काफी श्रम करते हैं। किन्तु वेद स्वयं यहाँ पर अपने विषय में उठाये जाने वाले आक्षेप का उत्तर देते हैं और मायावादी निर्विशेषवाद का समर्थन नहीं करते।
सृजन की प्रक्रिया पारिभाषिक दृष्टि से सृष्टि (“बाहर निकालना”) कहलाती है। भगवान् अपनी विविध शक्तियों को बाहर निकालते हैं और ये शक्तियाँ उनसे पृथक् रहकर उनकी प्रकृति में भाग लेती हैं। यह तथ्य अचिन्त्यभेदाभेद के असली वैदिक दर्शन में व्यक्त हुआ है। इस तरह यद्यपि असंख्य व्यष्टि जीवों में हर एक की पृथक् पहचान (सत्ता) है, किन्तु हर जीव उसी आध्यात्मिक वस्तु से बना होता है, जिससे ब्रह्म बना है। चूँकि सारे जीव भगवान् के आध्यात्मिक सार में सम्मिलित हैं, अतएव वे अजन्मा तथा नित्य हैं, जिस तरह ब्रह्म है। भगवान् कृष्ण ने कुरुक्षेत्र के युद्धस्थल में अर्जुन से कहते हुए इसकी पुष्टि की है—

न त्वेवाहं जातु नासं न त्वं नेमे जनाधिपा:।

न चैव न भविष्याम: सर्वे वयमत: परम् ॥

“ऐसा कोई काल नहीं था जब मैं नहीं था या तुम नहीं थे अथवा ये सारे राजा नहीं थे। न ही भविष्य में हममें से कोई भी नहीं रहेगा।” (भगवद्गीता २.१२) भौतिक सृष्टि उन जीवों के लिए विशेष आयोजन है, जो भगवान् की सेवा से अपने को पृथक् करना चाहते हैं। इस तरह सृष्टि का अर्थ है एक नकली जगत की उत्पत्ति जहाँ ऐसे जीव अपने को स्वतंत्र मान सकें।

भौतिक जीवन की नाना योनियाँ उत्पन्न करने के बाद भगवान् प्रत्येक जीव को बुद्धि तथा प्रेरणा, जिसकी उसे अपने दैनिक जीवन में आवश्यकता पड़ती है, प्रदान करने के लिए, अपनी ही सृष्टि में परमात्मा के रूप में विस्तरित होते हैं। जैसाकि तैत्तिरीय उपनिषद् (२.६.२) में कहा गया है—तत् सृष्ट्वा तद् एवानुप्राविशत्—इस जगत को उत्पन्न करने के बाद वे इसमें प्रविष्ट हो गये। किन्तु भगवान् इस भौतिक जगत में इससे किसी प्रकार का सम्बन्ध रखे बिना प्रवेश करते हैं—इसे ही श्रुतियाँ यहाँ पर विशन्निव पद (केवल प्रविष्ट प्रतीत होते हुए) द्वारा घोषित करती हैं। तरतमश्चकास्सि का अर्थ है कि परमात्मा महान् देवता ब्रह्मा से लेकर एक क्षुद्र कीटाणु तक हर जीव के शरीर में प्रवेश करते हैं और प्रत्येक जीव के प्रबुद्ध होने की क्षमता के अनुसार विभिन्न मात्राओं में अपनी शक्ति दर्शाते हैं। अनलवत् स्वकृतानुकृति:—जिस तरह से विभिन्न वस्तुओं में लगाई गई अग्नि उन वस्तुओं के आकार के अनुसार जलती है, उसी तरह परमात्मा सभी जीवों के शरीरों में प्रवेश करके उसकी क्षमता के अनुसार ही प्रत्येक बद्धजीव को प्रकाश प्रदान करता है।

सृष्टि तथा संहार के बीच भी समस्त जीवों का स्वामी नित्य अपरिवर्तित है, जैसाकि एकरसम् शब्द से द्योतन हुआ है। दूसरे शब्दों में, भगवान् अपने अपरिमेय, शुद्ध दिव्य आनन्द वाले साकार स्वरूप को सदैव बनाये रखता है। वे विरले जीव जो भौतिक व्यापारों से अर्थात् पण (इस तरह अभिविपण्यव: बनकर) अपने को पूर्णतया विलग (अभितस्) रखते हैं, वे ही परमेश्वर को यथार्थ रूप में जान पाते हैं। हर बुद्धिमान व्यक्ति को इन्हीं महात्माओं का अनुसरण करना चाहिए और उनसे यह याचना करनी चाहिए कि उन्हें भी भगवद्भक्ति में लगा दें।

श्रुतियों द्वारा की गई इस स्तुति का भाव श्वेताश्वतर उपनिषद् के निम्नलिखित मंत्र (६.११) से साम्य रखता है—

एको देव: सर्वभूतेषु गूढ: सर्वव्यापी सर्वभूतान्तरात्मा।

कर्माध्यक्ष: सर्वभूताधिवास: साक्षी चेता केवलो निर्गुणश्च ॥

“एक परमेश्वर समस्त सृजित वस्तुओं के भीतर छिपा रहता है। वह समस्त पदार्थ में व्याप्त है और सारे जीवों के हृदयों के भीतर स्थित रहता है। अन्त:वासी परमात्मा के रूप में वह उनके कार्यकलापों का निरीक्षण करता है। इस तरह स्वयं निर्गुण होते हुए भी वह अद्वितीय साक्षी है तथा चेतना देने वाला है।”

श्रील श्रीधर स्वामी अपनी प्रार्थना प्रस्तुत करते हैं : स्वनिर्मितेषु कार्येषु तारतम्यविवर्जितम्।

सर्वानुस्यूतसन्मात्रं भगवन्तं भजामहे ॥

“हम उन परमेश्वर की पूजा करें, जो अपनी ही सृष्टि के पदार्थों में प्रवेश करते हैं, फिर भी उनकी उत्तम तथा निम्न भौतिक कोटियों से वे पृथक् रहते हैं। वे शुद्ध, विभेदरहित अस्तित्ववाले है और सर्वव्यापी हैं।”

____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥