हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 12: पतनोन्मुख युग  »  अध्याय 11: महापुरुष का संक्षिप्त वर्णन  »  श्लोक 44
 
 
श्लोक  12.11.44 
विष्णुरश्वतरो रम्भा सूर्यवर्चाश्च सत्यजित् ।
विश्वामित्रो मखापेत ऊर्जमासं नयन्त्यमी ॥ ४४ ॥
 
शब्दार्थ
विष्णु: अश्वतर: रम्भा—विष्णु, अश्वतर तथा रम्भा; सूर्यवर्चा:—सूर्यवर्चा; —तथा; सत्यजित्—सत्यजित; विश्वामीत्र: मखापेत:—विश्वामित्र तथा मखापेत; ऊर्ज-मासम्—ऊर्ज मास (कार्तिक); नयन्ति—शासन करते हैं; अमी—ये ।.
 
अनुवाद
 
 ऊर्ज मास पर, विष्णु सूर्य देव, अश्वतर नाग, रम्भा अप्सरा, सूर्यवर्चा गन्धर्व, सत्यजित् यक्ष, विश्वामित्र मुनि तथा मखापेत राक्षस के रूप में, शासन करते हैं।
 
तात्पर्य
 इन सारे सूर्य देवों तथा उनके संगियों का उल्लेख कूर्म पुराण में निम्नवत् हुआ है— धातार्यमा च मित्रश्च वरुणश्च चेन्द्र एव च।

विवस्वान् अथा पूषा च पर्जन्यश्चांशुरेव च ॥

भगस्त्वष्टा च विष्णुश्च आदित्या द्वादश स्मृता:।

पुलस्त्य: पुलहश्चात्रिर् वसिष्ठोऽथांगिरा भृगु: ॥

गौतमोऽथ भरद्वाज: कश्यप: क्रातुरेव च।

जमदग्नि: कौशिकश्च मुनयो ब्रह्मवादिना: ॥

रथकृच्चाप्यथोजाश्च ग्रामणी: सुरुचिस्तथा।

रथचित्रस्वन: श्रोता, अरुण: सेनजित तथा ॥

तार्क्ष्य अरिष्टनेमिश्च ऋतजित् सत्यजित् तथा।

अथ हेति: प्रहेतिश्च पौरुषेयो वधस्तथा।

वर्यो व्याघ्रस्तथापश्च वायुर्विद्युद् दिवाकर: ॥

ब्रह्मापेतश्च विपेन्द्रा यज्ञापेतश्च राक्षका:।

वासुकि: कच्छनीरश्च तक्षक: शुक्र एव च ॥

एलापत्र: शंखपालस्तथैरावतसंज्ञित:।

धनञ्जयो महापद्मस्तथा कर्कोटको द्विजा: ॥

कम्बलोऽश्वतरश्चैव वहन्त्येनम यथाक्रमम्।

तुम्बुरुर्नारदो हाहा हूहूर्विश्वावसुस्तथा ॥

उग्रसेनो वसुरुचिर्विश्ववसुरथापर:।

चित्रसेनस्तथोर्णायुर्धृतराष्ट्रो द्विजोत्तमा: ॥

सूर्यवर्चा द्वादशैते गन्धर्वा गायतां वरा:।

कृतस्थल्यप्सरोवर्या तथान्या पुञ्जिकस्थली ॥

मेनका सहजन्या च प्रम्लोचा च द्विजोत्तमा:।

अनुम्लोचा घृताची च विश्वाची चोर्वशी तथा ॥

अन्या च पूर्ववचित्ति: स्याद् अन्या चैव तिलोत्तमा।

रम्भा चेति द्विजश्रेष्ठास्तथैवाप्सरस: स्मृता: ॥

 
शेयर करें
       
 
  All glories to Srila Prabhupada. All glories to  वैष्णव भक्त-वृंद
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
>  हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥