श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 2: ब्रह्माण्ड की अभिव्यक्ति  »  अध्याय 10: भागवत सभी प्रश्नों का उत्तर है  »  श्लोक 36
 
 
श्लोक
स वाच्यवाचकतया भगवान् ब्रह्मरूपधृक् ।
नामरूपक्रिया धत्ते सकर्माकर्मक: पर: ॥ ३६ ॥
 
शब्दार्थ
स:—वह; वाच्य—अपने रूपों तथा कार्यों से; वाचकतया—अपने दिव्य गुणों एवं परिवेश से; भगवान्—भगवान्; ब्रह्म— परम; रूप-धृक्—दृश्य रूपों को ग्रहण करके; नाम—नाम; रूप—रूप, आकार; क्रिया—लीलाएँ; धत्ते—स्वीकार करता है; स-कर्म—कार्य में संलग्न; अकर्मक:—प्रभावित हुए बिना; पर:—दिव्यातीत ।.
 
अनुवाद
 
 अपने दिव्य नाम, गुण, लीलाओं, परिवेश तथा विभिन्नताओं के कारण भगवान् अपने आपको दिव्य रूप में प्रकट करते हैं। यद्यपि इन समस्त कार्यकलापों का उन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता, किन्तु वे व्यस्त से प्रतीत होते हैं।
 
तात्पर्य
 जब भी भौतिक सृष्टि करने की आवश्यकता होती है, तो श्रीभगवान् सृष्टि, पालन तथा संहार के लिए इस संसार में विविध रूप धारण करते हैं। मनुष्य को इतना बुद्धिमान तो होना ही चाहिए कि वह उनकी लीलाओं को सही-सही जान सके और यह न सोच बैठे कि वे भौतिक प्रकृति द्वारा निर्मित सांसारिक रूप धारण करके इस जगत में अवतरित होते हैं। भौतिक प्रकृति से गृहीत कोई भी रूप इस संसार में किए गए प्रत्येक कार्य से अनुराग रखता है। जो बद्धजीव किसी कार्य के प्रयोजन से भौतिक रूप ग्रहण करता है उस पर भौतिक नियम लागू होते हैं। किन्तु इस श्लोक में स्पष्ट कहा गया है कि यद्यपि भगवान् के रूप तथा कार्य बद्धजीव जैसे होते हैं, किन्तु वे अलौकिक होते हैं और बद्धजीव के लिए असम्भव होते हैं। वे पूर्ण पुरुषोत्तम भगवान् ऐसे कार्यों से सदैव अप्रभावित रहते हैं।

भगवद्गीता (४.१४) में भगवान् कहते हैं—

न मां कर्माणि लिम्पन्ति न मे कर्मफले स्पृहा।

इति मां योऽभिजानाति कर्मभिर्न स बध्यते ॥

भगवान् कभी न तो उन कर्मों द्वारा बँधते हैं, जिन्हें वे अपने विभिन्न अवतारों के द्वारा सम्पन्न करते हैं, न ही उन्हें सकाम कर्म द्वारा सफलता प्राप्त करने की आकांक्षा रहती है। भगवान् धन, बल, यश, सौंदर्य, ज्ञान तथा त्याग की विविध शक्तियों से पूरित हैं, अत: बद्धजीव के समान उन्हें परिश्रम करने की कोई आवश्यकता नहीं पड़ती। अत: ऐसा बुद्धिमान पुरुष जो भगवान् के दिव्य कार्यों तथा बद्धजीवों के कार्यों में भेद कर सकता है, वह भी कर्मफल में नहीं बँधता। ब्रह्मा, विष्णु तथा शिव के रूप में भगवान् प्रकृति के त्रिगुणों का सञ्चालन करने वाले हैं। विष्णु से ब्रह्मा और ब्रह्मा से शिव उत्पन्न हैं। कभी-कभी ब्रह्मा विष्णु के पृथक् अंश होते हैं, तो कभी ब्रह्मा स्वयं विष्णु होते हैं। इस प्रकार ब्रह्मा ब्रह्माण्ड भर की समस्त योनियों को उत्पन्न करते हैं, जिसका अर्थ होता है कि भगवान् सम्पूर्ण सृष्टि को या तो स्वयं उत्पन्न करते हैं या फिर अपने अधिकृत सहायक के माध्यम से करते हैं।

 
शेयर करें
       
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥