श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 2: ब्रह्माण्ड की अभिव्यक्ति  »  अध्याय 6: पुरुष सूक्त की पुष्टि  »  श्लोक 2
 
 
श्लोक
सर्वासूनां च वायोश्च तन्नासे परमायणे ।
अश्विनोरोषधीनां च घ्राणो मोदप्रमोदयो: ॥ २ ॥
 
शब्दार्थ
सर्व—सभी; असूनाम्—विभिन्न प्रकार की प्राणवायु; च—तथा; वायो:—वायु का; च—भी; तत्—उसकी; नासे—नाक में; परम-आयणे—दिव्य जनन-बिन्दु में; अश्विनो:—अश्विनीकुमार देवताओं का; ओषधीनाम्—समस्त जड़ी-बूटियों का; च—भी; घ्राण:—घ्राण-शक्ति; मोद—आनन्द; प्रमोदयो:—विशिष्ट खेल ।.
 
अनुवाद
 
 उनके दोनों नथुने हमारे श्वास के तथा अन्य सभी प्रकार के वायु के जनन-केन्द्र हैं; उनकी घ्राण शक्ति से अश्विनीकुमार तथा समस्त प्रकार की जड़ी-बूटियाँ उत्पन्न होती हैं और उनकी श्वास-शक्ति से विभिन्न प्रकार की सुगन्धियाँ उत्पन्न होती हैं।
 
 
शेयर करें
       
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥