श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 2: ब्रह्माण्ड की अभिव्यक्ति  »  अध्याय 6: पुरुष सूक्त की पुष्टि  »  श्लोक 24

 
श्लोक
तेषु यज्ञस्य पशव: सवनस्पतय: कुशा: ।
इदं च देवयजनं कालश्चोरुगुणान्वित: ॥ २४ ॥
 
शब्दार्थ
तेषु—ऐसे यज्ञों में; यज्ञस्य—यज्ञ की सम्पन्नता का; पशव:—पशु या यज्ञ की सामग्री; स-वनस्पतय:—फल-फूल सहित; कुशा:—कुश; इदम्—ये सब; च—भी; देव-यजनम्—यज्ञ की वेदी; काल:—उपुयक्त समय; च—भी; उरु—अत्यधिक; गुण-अन्वित:—योग्य ।.
 
अनुवाद
 
 यज्ञोत्सवों को सम्पन्न करने के लिए फूल, पत्ती, कुश जैसी यज्ञ-सामग्रियों के साथ-साथ यज्ञ-वेदी तथा उपयुक्त समय (वसन्त) की भी आवश्यकता होती है।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥