श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 2: ब्रह्माण्ड की अभिव्यक्ति  »  अध्याय 9: श्रीभगवान् के वचन का उद्धरण देते हुए प्रश्नों के उत्तर  »  श्लोक 20

 
श्लोक
श्रीभगवानुवाच
त्वयाहं तोषित: सम्यग् वेदगर्भ सिसृक्षया ।
चिरं भृतेन तपसा दुस्तोष: कूटयोगिनाम् ॥ २० ॥
 
शब्दार्थ
श्री-भगवान् उवाच—परम सुन्दर भगवान् ने कहा; त्वया—तुम्हारे द्वारा; अहम्—मैं; तोषित:—प्रसन्न हूँ; सम्यक्—पूर्ण; वेद- गर्भ—वेद से संपृक्त; सिसृक्षया—उत्पत्ति के हेतु; चिरम्—दीर्घकाल से; भृतेन—संचित; तपसा—तपस्या से; दुस्तोष:— कठिनाई से प्रसन्न होने वाला; कूट-योगिनाम्—छद्मयोगियों के लिए ।.
 
अनुवाद
 
 परम सुन्दर भगवान् ने ब्रह्मा को सम्बोधित किया—हे वेदों से संपृक्त ब्रह्मा, सृष्टि की इच्छा से की गई तुम्हारी दीर्घकालीन तपस्या से मैं अत्यन्त प्रसन्न हूँ। मैं छद्मयोगियों से बहुत ही मुश्किल से प्रसन्न हो पाता हूँ।
 
तात्पर्य
 तपस्या दो प्रकार की होती है—एक तो इन्द्रियतृप्ति हेतु और दूसरी आत्म-साक्षात्कार हेतु। ऐसे अनेक छद्मयोगी हैं, जो अपनी तृप्ति के लिए कठिन तपस्या करते हैं, किन्तु ऐसे भी योगी हैं, जो भगवान् की इन्द्रिय-तृप्ति के लिए तप करते हैं। उदाहरणार्थ यदि परमाणु हथियार की खोज के लिए तप किया जाय तो इससे भगवान् प्रसन्न नहीं होंगे, क्योंकि ऐसा तप कभी भी सन्तोषप्रद नहीं होगा। प्रत्येक मनुष्य को मरना है, किन्तु यदि किसी के तप द्वारा मृत्यु की प्रक्रिया त्वरित हो जाये, तो इससे भगवान् को प्रसन्नता नहीं होगी। भगवान् चाहते हैं कि उनके सारे
अंश भगवान् के धाम पहुँच कर शाश्वत जीवन पाएँ और आनन्द भोगें और सारी भौतिक सृष्टि की रचना इसी उद्देश्य से की गई है। ब्रह्मा ने इसी उद्देश्य के लिए—अर्थात् सृष्टि क्रम को नियमित करने के लिए तपस्या की, जिससे भगवान् प्रसन्न हो सकें। इसीलिए भगवान् उनसे इतने प्रसन्न हुए और ब्रह्माजी को वैदिक ज्ञान से पूरित कर दिया। वैदिक ज्ञान का चरम लक्ष्य भगवान् को जानना है, अन्य कार्यों में इसका दुरुपयोग करना नहीं। जो वैदिक ज्ञान का उपयोग इस कार्य के लिए नहीं करते, वे कूट योगी कहलाते हैं, जो निरुद्देश्य अपना जीवन विनष्ट कर देते हैं।
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥