श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 3: यथास्थिति  » 
 
 
 
 
अध्याय 1:  विदुर द्वारा पूछे गये प्रश्न
 
अध्याय 2:  भगवान् कृष्ण का स्मरण
 
अध्याय 3:  वृन्दावन से बाहर भगवान् की लीलाएँ
 
अध्याय 4:  विदुर का मैत्रेय के पास जाना
 
अध्याय 5:  मैत्रेय से विदुर की वार्ता
 
अध्याय 6:  विश्व रूप की सृष्टि
 
अध्याय 7:  विदुर द्वारा अन्य प्रश्न
 
अध्याय 8:  गर्भोदकशायी विष्णु से ब्रह्मा का प्राकट्य
 
अध्याय 9:  सृजन-शक्ति के लिए ब्रह्मा द्वारा स्तुति
 
अध्याय 10:  सृष्टि के विभाग
 
अध्याय 11:  परमाणु से काल की गणना
 
अध्याय 12:  कुमारों तथा अन्यों की सृष्टि
 
अध्याय 13:  वराह भगवान् का प्राकट्य
 
अध्याय 14:  संध्या समय दिति का गर्भ-धारण
 
अध्याय 15:  ईश्वर के साम्राज्य का वर्णन
 
अध्याय 16:  वैकुण्ठ के दो द्वारपालों, जय-विजय को मुनियों द्वारा शाप
 
अध्याय 17:  हिरण्याक्ष की दिग्विजय
 
अध्याय 18:  भगवान् वराह तथा असुर हिरण्याक्ष के मध्य युद्ध
 
अध्याय 19:  असुर हिरण्याक्ष का वध
 
अध्याय 20:  मैत्रेय-विदुर संवाद
 
अध्याय 21:  मनु-कर्दम संवाद
 
अध्याय 22:  कर्दममुनि तथा देवहूति का परिणय
 
अध्याय 23:  देवहूति का शोक
 
अध्याय 24:  कर्दम मुनि का वैराग्य
 
अध्याय 25:  भक्तियोग की महिमा
 
अध्याय 26:  प्रकृति के मूलभूत सिद्धान्त
 
अध्याय 27:  प्रकृति का ज्ञान
 
अध्याय 28:  भक्ति साधना के लिए कपिल के आदेश
 
अध्याय 29:  भगवान् कपिल द्वारा भक्ति की व्याख्या
 
अध्याय 30:  भगवान् कपिल द्वारा विपरीत कर्मों का वर्णन
 
अध्याय 31:  जीवों की गतियों के विषय में भगवान् कपिल के उपदेश
 
अध्याय 32:  कर्म-बन्धन
 
अध्याय 33:  कपिल के कार्यकलाप
 
शेयर करें
       
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥