श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 3: यथास्थिति  »  अध्याय 19: असुर हिरण्याक्ष का वध  »  श्लोक 23
 
 
श्लोक
तदा दिते: समभवत्सहसा हृदि वेपथु: ।
स्मरन्त्या भर्तुरादेशं स्तनाच्चासृक् प्रसुस्रुवे ॥ २३ ॥
 
शब्दार्थ
तदा—उसी क्षण; दिते:—दिति के; समभवत्—उत्पन्न हुआ; सहसा—अचानक; हृदि—हृदय में; वेपथु:—कम्पन; स्मरन्त्या:—स्मरण करके; भर्तु:—अपने पति, कश्यप के; आदेशम्—वचन; स्तनात्—स्तन से; च—यथा; असृक्—रक्त; प्रसुस्रुवे—बहने लगा ।.
 
अनुवाद
 
 उसी क्षण, हिरण्याक्ष की माता दिति के हृदय में सहसा एक थरथराहट हुई। उसे अपने पति कश्यप के वचनों का स्मरण हो आया और उसके स्तनों से रक्त बहने लगा।
 
तात्पर्य
 हिरण्याक्ष के अन्तिम समय पर उसकी माता दिति को अपने पति के वचनों का स्मरण हो आया कि यद्यपि उसके पुत्र असुर होंगे, किन्तु स्वयं भगवान् के हाथों से मारे जाने का वे लाभ उठाएंगे। भगवत्कृपा से उसे ये वचन स्मरण हो आये और उसके स्तनों से दूध के बजाय रक्त बह निकला। यह कई बार देखा गया है कि जब माता
अपने पुत्रों के स्नेह से विचलित हो उठती है, तो उसके स्तनों से दूध बहने लगता है। यहाँ पर असुर की माता का रक्त दूध में नहीं बदल सका वरन् उसी रूप में बह निकला। रक्त ही दूध में बदलता है। दूध का पीना शुभ है, किन्तु रक्त पीना अशुभ है, यद्यपि दोनों एक ही हैं। यही बात गाय के दूध पर भी लागू होती है।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥