श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 3: यथास्थिति  »  अध्याय 3: वृन्दावन से बाहर भगवान् की लीलाएँ  »  श्लोक 8
 
 
श्लोक
आसां मुहूर्त एकस्मिन्नानागारेषु योषिताम् ।
सविधं जगृहे पाणीननुरूप: स्वमायया ॥ ८ ॥
 
शब्दार्थ
आसाम्—सबों को; मुहूर्ते—एक समय; एकस्मिन्—एकसाथ; नाना-आगारेषु—विभिन्न कमरों में; योषिताम्—स्त्रियों के; स विधम्—विधिपूर्वक; जगृहे—स्वीकार किया; पाणीन्—हाथों को; अनुरूप:—के अनुरूप; स्व-मायया—अपनी अन्तरंगा शक्ति से ।.
 
अनुवाद
 
 वे सभी राजकुमारियाँ अलग-अलग भवनों में रखी गई थीं और भगवान् ने एकसाथ प्रत्येक राजकुमारी के लिए उपयुक्त युग्म के रूप में विभिन्न शारीरिक अंश धारण कर लिये। उन्होंने अपनी अन्तरंगा शक्ति द्वारा विधिवत् उनके साथ पाणिग्रहण कर लिया।
 
तात्पर्य
 ब्रह्म-संहिता (५.३३) में भगवान् उनके असंख्य स्वांशों के साथ निम्नवत् वर्णन हुआ है—

अद्वैतमच्युतमनादिमनन्तरूपम् आद्यं पुराणपुरुषंनवयौवनं च।

वेदेषु दुर्लभमदुर्लभमात्मभक्तौ गोविन्दमादिपुरुषं तमहं भजामि ॥

“मैं उन भगवान् गोविन्द की पूजा करता हूँ जो आदि भगवान् हैं। वे अपने असंख्य स्वांशों से अभिन्न हैं; वे अच्युत, आदि, तथा असीम हैं एवं नित्य स्वरूपों वाले हैं। यद्यपि वे सबसे प्राचीन पुरुष हैं, किन्तु वे सदैव नवीन तथा युवा रहते हैं।” भगवान् अपनी अन्तरंगा शक्ति से स्वयं प्रकाश के विविध पुरुषों में और पुन: प्राभव तथा वैभव रूपों में विस्तार कर सकते हैं। ये सारे रूप एक दूसरे से अभिन्न होते हैं। भगवान् ने विभिन्न भवनों में रह रही राजकुमारियों के साथ विवाह करने के लिए जिन रूपों में अपना विस्तार किया वे उनमें से हर एक के अनुरूप होने से कुछ-कुछ भिन्न थे। वे भगवान् के वैभव-विलास रूप कहलाते हैं और उनकी अन्तरंगा शक्ति योग-माया द्वारा क्रियाशील होते हैं।

 
शेयर करें
       
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥