श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 3: यथास्थिति  »  अध्याय 30: भगवान् कपिल द्वारा विपरीत कर्मों का वर्णन  »  श्लोक 26

 
श्लोक
जीवतश्चान्त्राभ्युद्धार: श्वगृध्रैर्यमसादने ।
सर्पवृश्चिकदंशाद्यैर्दशद्‌भिश्चात्मवैशसम् ॥ २६ ॥
 
शब्दार्थ
जीवत:—जीवित; च—तथा; अन्त्र—आँतें; अभ्युद्धार:—बाहर खींचकर; श्व-गृध्रै:—कुत्तों तथा गीधों द्वारा; यम- सादने—यमराज के सदन में; सर्प—सर्प; वृश्चिक—बिच्छू; दंश—डाँस, मच्छर; आद्यै:—इत्यादि के द्वारा; दशद्भि:—काटे जाने पर; च—तथा; आत्म-वैशसम्—अपना उत्पीडऩ ।.
 
अनुवाद
 
 नरक के कुत्तों तथा गीधों द्वारा उसकी आँखें उसके जीवित रहते और देखते-देखते निकाल ली जाती हैं और उसे साँपों, बिच्छुओं, डाँसों तथा अन्य काटने वाले जन्तुओं से पीड़ा पहुँचाई जाती है।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥