श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 3: यथास्थिति  »  अध्याय 31: जीवों की गतियों के विषय में भगवान् कपिल के उपदेश  »  श्लोक 17
 
 
श्लोक
देह्यन्यदेहविवरे जठराग्निनासृग्-
विण्मूत्रकूपपतितो भृशतप्तदेह: ।
इच्छन्नितो विवसितुं गणयन्स्वमासान्
निर्वास्यते कृपणधीर्भगवन्कदा नु ॥ १७ ॥
 
शब्दार्थ
देही—देहधारी जीव; अन्य-देह—दूसरे शरीर के; विवरे—उदर में; जठर—पेट की; अग्निना—अग्नि से; असृक्— रक्त; विट्—मल; मूत्र—तथा मूत्र के; कूप—कुएँ में; पतित:—गिरा हुआ; भृश—प्रबल रूप से; तप्त—जला हुआ; देह:—उसका शरीर; इच्छन्—चाहते हुए; इत:—इस स्थान से; विवसितुम्—बाहर निकलने के लिए; गणयन्— गिनते हुए; स्वमासान्—अपने महीने; निर्वास्यते—मुक्त किया जावेगा; कृपण-धी:—कृपण बुद्धि का व्यक्ति; भगवन्—हे भगवान्; कदा—कब; नु—निस्सन्देह ।.
 
अनुवाद
 
 अपनी माता के उदर में रक्त, मल तथा मूत्र के कूप में गिर कर और अपनी माँ की जठराग्नि से दग्ध देहधारी जीव बाहर निकलने की व्यग्रता में महीनों की गिनती करता रहता है और प्रार्थना करता है, “हे भगवान्, यह अभागा जीव कब इस कारागार से मुक्त हो पाएगा?”
 
तात्पर्य
 यहाँ पर माता के गर्भ में जीव की विषम परिस्थिति का वर्णन है। एक ओर शिशु जठराग्नि की उष्मा से तपता रहता है और दूसरी ओर मल, मूत्र, रक्त आदि रहते हैं। सात मास के बाद शिशु में चेतना आ जाती हैं, अत: उसे अपनी दु:सह स्थिति का बोध होने लगता है और वह भगवान् से प्रार्थना करता है। बाहर आने तक वह माहों की गिनती करता रहता है और उस कारागार से निकलने के लिए व्यग्र रहता है। तथाकथित सभ्य मनुष्य जीवन की इस भयावह स्थिति पर ध्यान नहीं देता और कभी-कभी इन्द्रियतृप्ति के उद्देश्य से वह गर्भनिरोधक विधियों या गर्भपात के द्वारा उसे मारने का प्रयत्न करता है। ऐसे लोग गर्भ की भयावह स्थिति के प्रति चिन्तित न रह कर भौतिकता में पड़े रहते हैं और मनुष्य जीवन का दुरुपयोग करते हैं।

इस श्लोक का कृपणधी: शब्द महत्त्वपूर्ण है। धी: का अर्थ है ‘बुद्धि’ और कृपण का अर्थ है ‘कंजूस’। बद्धजीवन उन लोगों के लिए बना है, जो बुद्धि के कृपण हैं या जो अपनी बुद्धि का प्रयोग नहीं करते। मनुष्य में बुद्धि विकसित रहती है और इस बुद्धि का उपयोग जन्म-मरण के चक्र से छूटने के लिए करना होता है। जो ऐसा नहीं करता वह कंजूस है—वह केवल उसे देखता रहे। जो व्यक्ति अपनी मानव बुद्धि का उपयोग जन्म-मरण के चक्र अर्थात् माया के पाश से निकलने के लिए नहीं करता वह कंजूस माना जाता है। कृपण का विलोम ‘उदार’ है। ब्राह्मण उदार कहलाता है, क्योंकि वह अपनी मानवी बुद्धि का उपयोग आध्यात्मिक बोध के लिए करता है। वह उस बुद्धि का उपयोग जनता के लाभ हेतु कृष्णभक्ति का उपदेश करने के लिए करता है इसलिए वह उदार है।

 
शेयर करें
       
 
  All glories to Srila Prabhupada. All glories to वैष्णव भक्त-वृंद
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
About Us | Terms & Conditions
Privacy Policy | Refund Policy
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥