श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 4: चतुर्थ आश्रम की उत्पत्ति  » 
 
 
 
 
अध्याय 1:  मनु की पुत्रियों की वंशावली
 
अध्याय 2:  दक्ष द्वारा शिवजी को शाप
 
अध्याय 3:  श्रीशिव तथा सती का संवाद
 
अध्याय 4:  सती द्वारा शरीर-त्याग
 
अध्याय 5:  दक्ष के यज्ञ का विध्वंस
 
अध्याय 6:  ब्रह्मा द्वारा शिवजी को मनाना
 
अध्याय 7:  दक्ष द्वारा यज्ञ सम्पन्न करना
 
अध्याय 8:  ध्रुव महाराज का गृहत्याग और वनगमन
 
अध्याय 9:  ध्रुव महाराज का घर लौटना
 
अध्याय 10:  यक्षों के साथ ध्रुव महाराज का युद्ध
 
अध्याय 11:  युद्ध बन्द करने के लिए
 
अध्याय 12:  ध्रुव महाराज का भगवान् के पास जाना
 
अध्याय 13:  ध्रुव महाराज के वंशजों का वर्णन
 
अध्याय 14:  राजा वेन की कथा
 
अध्याय 15:  राजा पृथु की उत्पत्ति और राज्याभिषेक
 
अध्याय 16:  बन्दीजनों द्वारा राजा पृथु की स्तुति
 
अध्याय 17:  महाराज पृथु का पृथ्वी पर कुपित होना
 
अध्याय 18:  पृथु महाराज द्वारा पृथ्वी का दोहन
 
अध्याय 19:  राजा पृथु के एक सौ अश्वमेध यज्ञ
 
अध्याय 20:  महाराज पृथु के यज्ञस्थल में भगवान् विष्णु का प्राकट्य
 
अध्याय 21:  महाराज पृथु द्वारा उपदेश
 
अध्याय 22:  चारों कुमारों से पृथु महाराज की भेंट
 
अध्याय 23:  महाराज पृथु का भगवद्धाम गमन
 
अध्याय 24:  शिवजी द्वारा की गई स्तुति का गान
 
अध्याय 25:  राजा पुरञ्जन के गुणों का वर्णन
 
अध्याय 26:  राजा पुरञ्जन का आखेट के लिए जाना और रानी का क्रुद्ध
 
अध्याय 27:  राजा पुरञ्जन की नगरी पर चण्डवेग का धावा और कालकन्या का चरित्र
 
अध्याय 28:  अगले जन्म में पुरञ्जन को स्त्री-योनि की प्राप्ति
 
अध्याय 29:  नारद तथा राजा प्राचीनबर्हि के मध्य वार्तालाप
 
अध्याय 30:  प्रचेताओं के कार्यकलाप
 
अध्याय 31:  प्रचेताओं को नारद का उपदेश
 
शेयर करें
       
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥