श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 4: चतुर्थ आश्रम की उत्पत्ति  »  अध्याय 1: मनु की पुत्रियों की वंशावली  »  श्लोक 63

 
श्लोक
अग्निष्वात्ता बर्हिषद: सौम्या: पितर आज्यपा: ।
साग्नयोऽनग्नयस्तेषां पत्नी दाक्षायणी स्वधा ॥ ६३ ॥
 
शब्दार्थ
अग्निष्वात्ता:—अग्निष्वात्त; बर्हिषद:—बर्हिषद; सौम्या:—सौम्य; पितर:—पूर्वज, पितृगण; आज्यपा:—आज्यप; स- अग्नय:—जिनका साधन अग्नि सहित है; अनग्नय:—जिनका साधन अग्निरहित हैं; तेषाम्—उनकी; पत्नी—पत्नी; दाक्षायणी—दक्ष की कन्या; स्वधा—स्वधा ।.
 
अनुवाद
 
 अग्निष्वात्त, बर्हिषद्, सौम्य तथा आज्यप—ये पितर हैं। वे या तो साग्निक हैं अथवा निरग्निक। इन समस्त पितरों की पत्नी स्वधा है, जो राजा दक्ष की पुत्री है।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥