श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 4: चतुर्थ आश्रम की उत्पत्ति  »  अध्याय 6: ब्रह्मा द्वारा शिवजी को मनाना  »  श्लोक 51
 
 
श्लोक
जीवताद्यजमानोऽयं प्रपद्येताक्षिणी भग: ।
भृगो: श्मश्रूणि रोहन्तु पूष्णो दन्ताश्च पूर्ववत् ॥ ५१ ॥
 
शब्दार्थ
जीवतात्—जी उठे; यजमान:—यज्ञकर्ता (दक्ष); अयम्—यह; प्रपद्येत—उसे वापस मिल जाय; अक्षिणी—नेत्र; भग:— भगदेव; भृगो:—भृगु मुनि की; श्मश्रूणि—मूँछें; रोहन्तु—पुन: उग आएं; पूष्ण:—पूषादेव के; दन्ता:—दन्त पंक्ति; च—तथा; पूर्व-वत्—पहले की तरह ।.
 
अनुवाद
 
 हे भगवान्, आपकी कृपा से यज्ञ के कर्त्ता (राजा दक्ष) को पुन: जीवन दान मिले, भग को उसके नेत्र मिल जायँ, भृगु को उसकी मूँछें तथा पूषा को उसके दाँत मिल जाएँ।
 
 
शेयर करें
       
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥