श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 4: चतुर्थ आश्रम की उत्पत्ति  »  अध्याय 8: ध्रुव महाराज का गृहत्याग और वनगमन  »  श्लोक 17
 
 
श्लोक
दीर्घं श्वसन्ती वृजिनस्य पार-
मपश्यती बालकमाह बाला ।
मामङ्गलं तात परेषु मंस्था
भुङ्क्ते जनो यत्परदु:खदस्तत् ॥ १७ ॥
 
शब्दार्थ
दीर्घम्—अत्यधिक; श्वसन्ती—साँस लेती हुई; वृजिनस्य—संकट की; पारम्—सीमा; अपश्यती—बिना पाये; बालकम्—अपने पुत्र से; आह—कहा; बाला—स्त्री ने; मा—मत; अमङ्गलम्—अशकुन; तात—मेरे पुत्र; परेषु—अन्यों को; मंस्था:—कामना; भुङ्क्ते—भोग करता है; जन:—व्यक्ति; यत्—जो; पर-दु:खद:—जो दूसरों को पीड़ा पहुँचाए; तत्—वह ।.
 
अनुवाद
 
 वह तेजी से साँस भी ले रही थी और वह इस दुखद स्थिति का कोई इलाज ठीक नहीं ढूँढ पा रही थी। अत: उसने अपने पुत्र से कहा : हे पुत्र, तुम अन्यों के अमंगल की कामना मत करो। जो भी दूसरों को कष्ट पहुँचाता है, वह स्वयं दुख भोगता है।
 
 
शेयर करें
       
 
  All glories to Srila Prabhupada. All glories to वैष्णव भक्त-वृंद
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
About Us | Terms & Conditions
Privacy Policy | Refund Policy
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥