श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 5: सृष्टि की प्रेरणा  »  अध्याय 1: महाराज प्रियव्रत का चरित्र  »  श्लोक 23

 
श्लोक
इति ह वाव स जगतीपतिरीश्वरेच्छयाधिनिवेशितकर्माधिकारोऽखिलजगद्ब‍न्धध्वंसनपरानुभावस्य भगवत आदिपुरुषस्याङ्‌घ्रियुगलानवरतध्यानानुभावेन परिरन्धितकषायाशयोऽवदातोऽपि मानवर्धनो महतां महीतलमनुशशास ॥ २३ ॥
 
शब्दार्थ
इति—इस प्रकार; ह वाव—निस्सन्देह; स:—वह; जगती-पति:—सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड का राजा; ईश्वर-इच्छया—भगवान् के आदेश से; अधिनिवेशित—पूर्णतया संलग्न; कर्म-अधिकार:—भौतिक कार्यों में; अखिल-जगत्—सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड का; बन्ध—बन्धन; ध्वंसन—विनष्ट करते हुए; पर—दिव्य; अनुभावस्य—जिसका प्रभाव; भगवत:—भगवान् के; आदि पुरुषस्य—आदि पुरुष के; अङ्घ्रि—चरणकमल में; युगल—दो; अनवरत—अहर्निश; ध्यान-अनुभावेन—ध्यान द्वारा; परिरन्धित—विनष्ट; कषाय—समस्त मल; आशय:—अपने हृदय में; अवदात:—नितान्त शुद्ध; अपि—यद्यपि; मान-वर्धन:— केवल सम्मान देने के लिए; महताम्—बड़ों को; महीतलम्—भौतिक संसार पर; अनुशशास—राज्य किया ।.
 
अनुवाद
 
 भगवान् की आज्ञा का पालन करते हुए महाराज प्रियव्रत सांसारिक कार्यों में अनुरक्त रहने लगे, किन्तु उन्हें सदैव भगवान् के उन चरणकमलों का ध्यान बना रहा जो समस्त भौतिक आसक्ति से मुक्ति दिलाने वाले हैं। यद्यपि महाराज प्रियव्रत समस्त भौतिक कल्मषों से विमुक्त थे, किन्तु अपने बड़ों का मान रखने के लिए ही वे इस संसार पर शासन करने लगे।
 
तात्पर्य
 मानवर्धनो महताम् (“अपने से श्रेष्ठजनों के प्रति सम्मान प्रकट करना”) शब्दसमूह अत्यन्त सार्थक है। यद्यपि महाराज प्रियव्रत पहले से ही मुक्त पुरुष थे और भौतिक वस्तुओं के प्रति उनका कोई आकर्षण नहीं था, किन्तु ब्रह्माजी का मान रखने के लिए ही उन्होंने शासन-भार सँभालने में पूरा ध्यान दिया। अर्जुन ने भी ऐसा ही किया था। अर्जुन को राजनैतिक कार्यों में भाग लेने अथवा कुरुक्षेत्र में युद्ध करने में कोई अभिरुचि नहीं थी, किन्तु जब श्रीकृष्ण ने उन्हें वैसा करने का आदेश दिया, तो उन्होंने बड़े ही अच्छे ढंग से अपने कर्तव्य का पालन किया। जो नित्य ही भगवान् के चरणकमलों का ध्यान धरता है, वह इस संसार के समस्त कल्मषों से ऊपर रहता है। जैसाकि भगवद्गीता (६.४७) में कहा गया है—
योगिनामपि सर्वेषां मद्गतेनान्तरात्मना।

श्रद्धावान्भजते यो मां स मे युक्ततमो मत: ॥

“समस्त योगियों में भी जो योगी श्रद्धाभाव से मेरे परायण होकर प्रेममय भक्तियोग के द्वारा मेरी दिव्य सेवा करता है, वह मुझसे परम अतरंग रूप में जुड़ा हुआ है और सबसे श्रेष्ठ है।” इसलिए महाराज प्रियव्रत मुक्त पुरुष एवं परम योगियों में से थे, फिर भी ब्रह्मा के आदेशानुसार वे बाह्य रूप से ब्रह्माण्ड के शासक बने। इस प्रकार अपने गुरुजनों के प्रति सम्मान का प्रदर्शन उनका एक और असाधारण गुण था। श्रीमद्भागवत (६.१७.२८) में कहा गया है—

नारायणपरा: सर्वे न कुतश्चन बिभ्यति।

स्वर्गापवर्गनर्केष्वपि तुल्यार्थदर्शिन: ॥

यदि भगवान् की आज्ञापालन का अवसर आता है, तो वास्तविक रूप से बढ़ा-चढ़ा भक्त किसी प्रकार भयभीत नहीं होता। मुक्त पुरुष होते हुए भी प्रियव्रत द्वारा सांसारिक कार्यों में निरत होने का यही कारण है। इसी सिद्धान्त के कारण एक महाभागवत, जिसका इस संसार से कोई सरोकार नहीं होता, भक्ति के द्वितीय स्तर पर उतर कर विश्व भर में भगवान् की महिमा का उपदेश देता है।

____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥