श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 5: सृष्टि की प्रेरणा  »  अध्याय 20: ब्रह्माण्ड रचना का विश्लेषण  »  श्लोक 1

 
श्लोक
श्रीशुक उवाच
अत: परं प्लक्षादीनां प्रमाणलक्षणसंस्थानतो वर्षविभाग उपवर्ण्यते ॥ १ ॥
 
शब्दार्थ
श्री-शुक: उवाच—श्रीशुकदेव गोस्वामी बोले; अत: परम्—इसके पश्चात्; प्लक्ष-आदीनाम्—प्लक्षद्वीप तथा अन्य द्वीप; प्रमाण लक्षण-संस्थानत:—आकार-प्रकार, लक्षण तथा स्थिति की दृष्टि से; वर्ष-विभाग:—द्वीप का विभाजन; उपवर्ण्यते—वर्णन किया जा रहा है ।.
 
अनुवाद
 
 महर्षि शुकदेव गोस्वामी बोले—इसके पश्चात् मैं प्लक्षादि अन्य छ: द्वीपों के आकार प्रकार, लक्षण तथा स्थिति का वर्णन करूँगा।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥