श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 6: मनुष्य के लिए विहित कार्य  » 
 
 
 
 
अध्याय 1:  अजामिल के जीवन का इतिहास
 
अध्याय 2:  विष्णुदूतों द्वारा अजामिल का उद्धार
 
अध्याय 3:  यमराज द्वारा अपने दूतों को आदेश
 
अध्याय 4:  प्रजापति दक्ष द्वारा भगवान् से की गई हंसगुह्य प्रार्थनाएँ
 
अध्याय 5:  प्रजापति दक्ष द्वारा नारद मुनि को शाप
 
अध्याय 6:  दक्ष की कन्याओं का वंश
 
अध्याय 7:  इन्द्र द्वारा गुरु बृहस्पति का अपमान
 
अध्याय 8:  नारायण-कवच
 
अध्याय 9:  वृत्रासुर राक्षस का आविर्भाव
 
अध्याय 10:  देवताओं तथा वृत्रासुर के मध्य युद्ध
 
अध्याय 11:  वृत्रासुर के दिव्य गुण
 
अध्याय 12:  वृत्रासुर की यशस्वी मृत्यु
 
अध्याय 13:  ब्रह्महत्या से पीडि़त राजा इन्द्र
 
अध्याय 14:  राजा चित्रकेतु का शोक
 
अध्याय 15:  नारद तथा अंगिरा ऋषियों द्वारा राजा चित्रकेतु को उपदेश
 
अध्याय 16:  राजा चित्रकेतु की परमेश्वर से भेंट
 
अध्याय 17:  माता पार्वती द्वारा चित्रकेतु को शाप
 
अध्याय 18:  राजा इन्द्र का वध करने के लिए दिति का व्रत
 
अध्याय 19:  पुंसवन व्रत का अनुष्ठान
 
शेयर करें
       
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥