श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 7: भगवद्-विज्ञान  » 
 
 
 
 
अध्याय 1:  समदर्शी भगवान्
 
अध्याय 2:  असुरराज हिरण्यकशिपु
 
अध्याय 3:  हिरण्यकशिपु की अमर बनने की योजना
 
अध्याय 4:  ब्रह्माण्ड में हिरण्यकशिपु का आतंक
 
अध्याय 5:  हिरण्यकशिपु का साधु पुत्र प्रह्लाद महाराज
 
अध्याय 6:  प्रह्लाद द्वारा अपने असुर सहपाठियों को उपदेश
 
अध्याय 7:  प्रह्लाद ने गर्भ में क्या सीखा
 
अध्याय 8:  भगवान् नृसिंह द्वारा असुरराज का वध
 
अध्याय 9:  प्रह्लाद द्वारा नृसिंह देव का प्रार्थनाओं से शान्त किया जाना
 
अध्याय 10:  भक्त शिरोमणि प्रह्लाद
 
अध्याय 11:  पूर्ण समाज: चातुर्वर्ण
 
अध्याय 12:  पूर्ण समाज : चार आध्यात्मिक वर्ग
 
अध्याय 13:  सिद्ध पुरुष का आचरण
 
अध्याय 14:  आदर्श पारिवारिक जीवन
 
अध्याय 15:  सुसंस्कृत मनुष्यों के लिए उपदेश
 
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥