श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 8: ब्रह्माण्डीय सृष्टि का निवर्तन  » 
 
 
 
 
अध्याय 1:  ब्रह्माण्ड के प्रशासक मनु
 
अध्याय 2:  गजेन्द्र का संकट
 
अध्याय 3:  गजेन्द्र की समर्पण-स्तुति
 
अध्याय 4:  गजेन्द्र का वैकुण्ठ गमन
 
अध्याय 5:  देवताओं द्वारा भगवान् से सुरक्षा याचना
 
अध्याय 6:  देवताओं तथा असुरों द्वारा सन्धि की घोषणा
 
अध्याय 7:  शिवजी द्वारा विषपान से ब्रह्माण्ड की रक्षा
 
अध्याय 8:  क्षीरसागर का मन्थन
 
अध्याय 9:  मोहिनी-मूर्ति के रूप में भगवान् का अवतार
 
अध्याय 10:  देवताओं तथा असुरों के बीच युद्ध
 
अध्याय 11:  इन्द्र द्वारा असुरों का संहार
 
अध्याय 12:  मोहिनी-मूर्ति अवतार पर शिवजी का मोहित होना
 
अध्याय 13:  भावी मनुओं का वर्णन
 
अध्याय 14:  विश्व व्यवस्था की पद्धति
 
अध्याय 15:  बलि महाराज द्वारा स्वर्गलोक पर विजय
 
अध्याय 16:  पयोव्रत पूजा विधि का पालन करना
 
अध्याय 17:  भगवान् को अदिति का पुत्र बनना स्वीकार
 
अध्याय 18:  भगवान् वामनदेव : वामन अवतार
 
अध्याय 19:  बलि महाराज से वामनदेव द्वारा दान की याचना
 
अध्याय 20:  बलि महाराज द्वारा ब्रह्माण्ड समर्पण
 
अध्याय 21:  भगवान् द्वारा बलि महाराज को बन्दी बनाया जाना
 
अध्याय 22:  बलि महाराज द्वारा आत्मसमर्पण
 
अध्याय 23:  देवताओं को स्वर्गलोक की पुनर्प्राप्ति
 
अध्याय 24:  भगवान् का मत्स्यावतार
 
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥