श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 9: मुक्ति  » 
 
 
 
 
अध्याय 1:  राजा सुद्युम्न का स्त्री बनना
 
अध्याय 2:  मनु के पुत्रों की वंशावलियाँ
 
अध्याय 3:  सुकन्या तथा च्यवन मुनि का विवाह
 
अध्याय 4:  दुर्वासा मुनि द्वारा अम्बरीष महाराज का अपमान
 
अध्याय 5:  दुर्वासा मुनि को जीवन-दान
 
अध्याय 6:  सौभरि मुनि का पतन
 
अध्याय 7:  राजा मान्धाता के वंशज
 
अध्याय 8:  भगवान् कपिलदेव से सगर-पुत्रों की भेंट
 
अध्याय 9:  अंशुमान की वंशावली
 
अध्याय 10:  परम भगवान् रामचन्द्र की लीलाएँ
 
अध्याय 11:  भगवान् रामचन्द्र का विश्व पर राज्य करना
 
अध्याय 12:  भगवान् रामचन्द्र के पुत्र कुश की वंशावली
 
अध्याय 13:  महाराज निमि की वंशावली
 
अध्याय 14:  पुरुरवा का उर्वशी पर मोहित होना
 
अध्याय 15:  भगवान् का योद्धा अवतार, परशुराम
 
अध्याय 16:  भगवान् परशुराम द्वारा विश्व के क्षत्रियों का विनाश
 
अध्याय 17:  पुरूरवा के पुत्रों की वंशावली
 
अध्याय 18:  राजा ययाति को यौवन की पुन:प्राप्ति
 
अध्याय 19:  राजा ययाति को मुक्ति-लाभ
 
अध्याय 20:  पूरु का वंश
 
अध्याय 21:  भरत का वंश
 
अध्याय 22:  अजमीढ के वंशज
 
अध्याय 23:  ययाति के पुत्रों की वंशावली
 
अध्याय 24:  भगवान् श्रीकृष्ण
 
शेयर करें
       
 
  All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
  Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.

 
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥