श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 9: मुक्ति  »  अध्याय 13: महाराज निमि की वंशावली  »  श्लोक 19

 
श्लोक
कुशध्वजस्तस्य पुत्रस्ततो धर्मध्वजो नृप: ।
धर्मध्वजस्य द्वौ पुत्रौ कृतध्वजमितध्वजौ ॥ १९ ॥
 
शब्दार्थ
कुशध्वज:—कुशध्वज; तस्य—उसका; पुत्र:—पुत्र; तत:—उससे; धर्मध्वज:—धर्मध्वज; नृप:—राजा; धर्मध्वजस्य—धर्मध्वज के; द्वौ—दो; पुत्रौ—पुत्र; कृतध्वज-मितध्वजौ—कृतध्वज तथा मितध्वज ।.
 
अनुवाद
 
 शीरध्वज का पुत्र कुशध्वज हुआ और कुशध्वज का पुत्र राजा धर्मध्वज हुआ जिसके कृतध्वज तथा मितध्वज नाम के दो पुत्र हुए।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥