श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 9: मुक्ति  »  अध्याय 2: मनु के पुत्रों की वंशावलियाँ  »  श्लोक 2

 
श्लोक
ततोऽयजन्मनुर्देवमपत्यार्थं हरिं प्रभुम् ।
इक्ष्वाकुपूर्वजान् पुत्रान्लेभे स्वसद‍ृशान् दश ॥ २ ॥
 
शब्दार्थ
तत:—तत्पश्चात्; अयजत्—पूजा की; मनु:—वैवस्वत मनु ने; देवम्—भगवान् की; अपत्य-अर्थम्—सन्तान प्राप्त करने के लिए; हरिम्—हरि की; प्रभुम्—प्रभु; इक्ष्वाकु-पूर्व-जान्—जिनमें सबसे बड़ा इक्ष्वाकु था; पुत्रान्—पुत्रों को; लेभे—पाया; स्व-सदृशान्— अपनी ही तरह के; दश—दस ।.
 
अनुवाद
 
 तब पुत्र-कामना से श्राद्धदेव ने देवों के देव भगवान् हरि की पूजा की। इस तरह उसे अपने ही सदृश दस पुत्र प्राप्त हुए। इनमें से इक्ष्वाकु सबसे बड़ा था।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥