श्रीमद् भागवतम
शब्द आकार

भागवत पुराण  »  स्कन्ध 9: मुक्ति  »  अध्याय 7: राजा मान्धाता के वंशज  »  श्लोक 16

 
श्लोक
रोहितस्तदभिज्ञाय पितु: कर्म चिकीर्षितम् ।
प्राणप्रेप्सुर्धनुष्पाणिररण्यं प्रत्यपद्यत ॥ १६ ॥
 
शब्दार्थ
रोहित:—हरिश्चन्द्र का पुत्र; तत्—यह तथ्य; अभिज्ञाय—ठीक से समझकर; पितु:—पिता का; कर्म—काम; चिकीर्षितम्—जिसे वह व्यावहारिक रूप से कर रहा था; प्राण-प्रेप्सु:—जीवन बचाने की इच्छा से; धनु:-पाणि:—अपना धनुष बाण लेते हुए; अरण्यम्— जंगल; प्रत्यपद्यत—चला गया ।.
 
अनुवाद
 
 रोहित समझ गया कि उसके पिता उसे बलि का पशु बनाना चाहते हैं। अतएव मृत्यु से बचने के लिए उसने धनुष-बाण से अपने आपको सज्जित किया और वह जंगल में चला गया।
 
____________________________
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥